Latest Sex Stories

मेरी नैनीताल वाली दीदी-2

मुझे कुछ नहीं सूझा तो मैंने दीदी को बाहों से पकड़ कर बिस्तर पर लिटा दिया, अब वो मेरे सामने एकदम नंगी पड़ी थीं. दूध सा सफ़ेद बदन. चूचियों का सौन्दर्य देखते ही बनता था.

मेरी नैनीताल वाली दीदी-1

दीदी ने मेरे लिंग को अपने मुंह में ले लिया और पूरे लिंग को अपने मुंह में भर लिया. मुझे ऐसा लग रहा था कि वो मेरे लिंग को कच्चा ही खा जायेगी

पूरे हुए सपने-2

कहानी का पिछ्ला भाग: पूरे हुए सपने-1 एक दिन हिम्मत कर के दोनों ने यासीन से पूछ ही लिया कि वो गाण्डू कैसे बना। तो सुनिए यासीन की जुबानी : हमारे यहाँ घर छोटे छोटे होते हैं और रहने वाले ज्यादा, हम मुस्लिम कामुक भी ज्यादा होते हैं, छोटी उम्र से ही हमारे यहाँ चुदाई […]

पूरे हुए सपने-1

सर्दियों में दो दोस्त एक ही रजाई में बैठे पढ़ रहे थे, दोनों के लण्ड खड़े थे, बीच बीच में वे उसको सहला रहे थे, दोनों जानते थे कि जब तक मुठ नहीं मारेंगे, साला लण्ड बैठेगा नहीं और वे पढ़ नहीं पाएँगे।

बीवी की सहेली की बेटी

मैंने कमरे में उसको दबोच लिया, वो बिस्तर पर गिर गई। मैंने उसकी टीशर्ट में हाथ घुसा कर पहले बगलों में गुदगुदी की फिर उसके मम्मों को मसलने लगा। उसके चुचूकों को चुटकी में भर कर मसला.

बीवी की सहेली-1

मैंने बाथरूम में जाकर लण्ड को धोया, उसके कमरे की तरफ गया, उसने कुण्डी नहीं लगाई थी, उसकी पीठ दरवाज़े की तरफ थी, वो ब्रा की हुक बंद कर रही थी।

ना जाओ सैंया छुड़ा के बईंयाँ

पूजा ने अपनी नाईटी उतार कर एक तरफ फेंक दी, मेरी बाहों में आकर बैठ गई और मेरे होठों को चूमने लगी, मेरी शर्ट के बटन खोल कर मेरी शर्ट निकाल दी।

बाथरूम का दर्पण-6

मैं रोनी सलूजा आपसे फिर मुखातिब हूँ। मेरी कहानी बाथरूम का दर्पण को सभी ने बहुत सराहा है। कुछ लोगों ने मुझसे सागर की हेमा पवार के बारे में जानकारी चाही तो कुछ ने रमा के बारे में जानना चाहा। क्षमायाचना के साथ मैं आप सभी को बता दूँ कि मेरी कहानियों में सभी नाम, […]

चिरयौवना साली-27

On 2010-02-19 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

लेखिका : कमला भट्टी जीजाजी बाथरूम में लण्ड धोने चले गए थे। वापिस आकर मुझे उठाया बाथरूम में जाने के लिए और मैं भी बाथरूम में घुस गई अपनी मुनिया को धोने और पेशाब करने के लिए जो दर्द के कारण मुश्किल से उतर रहा था ! फिर हम साथ में लेट कर बाते करने […]

आंटी गुलबदन और सेक्स (प्रेम) के सात सबक-5

प्रेम गुरु की कलम से 7. गुदा-मैथुन (गांडबाज़ी) मैंने अपने साथ पढ़ने वाले लड़कों से सुना भी था और मस्तराम की कहानियों में भी गांडबाजी के बारे में पढ़ा था। पर मुझे विश्वास ही नहीं होता था कि ऐसा सचमुच में होता होगा। आंटी ने जब सातवें सबक के बारे में बताया कि यह गुदा-मैथुन […]

चिरयौवना साली-26

On 2010-02-18 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

लेखिका : कमला भट्टी अब वे तूफानी गति से धक्के लगा रहे थे कि अचानक कालबेल बज उठी ! मैं और जीजाजी दोनों चौंक पड़े। मैंने धीरे से जीजू से पूछा- कौन हो सकता है? जीजाजी ने मुझे हाथ से सहला कर आश्वस्त करते हुए अपने कमर पर लुंगी लपेटी और दरवाज़े के पास चले […]

आंटी गुलबदन और सेक्स (प्रेम) के सात सबक-4

On 2010-02-18 Category: गुरु घण्टाल Tags:

प्रेम गुरु की कलम से 6. सम्भोग (प्रेम मिलन) काम विज्ञान के अनुसार सम्भोग का अर्थ होता है समान रूप से भोग अर्थात स्त्री और पुरुष दोनों सक्रिय होकर सामान रूप से एक दूसरे का भोग करें। नियमित रूप से सुखद सम्भोग करने से बुढ़ापा जल्दी नहीं आता और स्त्रियों में रजोनिवृति देरी से होती […]

चिरयौवना साली-25

On 2010-02-17 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

लेखिका : कमला भट्टी वे अपने कपड़े उठाकर बाथरूम में घुस गए, मैंने अलमारी से कपड़े निकाले और फटाफट पहन लिए ! जीजाजी बाथरूम से कपड़े पहन कर निकले तो मैं बाथरूम में घुस गई ! हम दोनों लिफ्ट से नीचे आ गए और खाना खाने लगे ! खाना खाकर हम दोनों फिर से कमरे […]

आंटी गुलबदन और सेक्स (प्रेम) के सात सबक-3

प्रेम गुरु की कलम से 5. प्रेम अंगों को चूमना और चूसना आंटी ने पहले ही बता दिया था कि प्रेम (सेक्स) में कुछ भी गन्दा नहीं होता। मानव शरीर के सारे अंग जब परमात्मा ने ही बनाए हैं तो इनमें कोई गन्दा कैसे हो सकता है। मेरे प्यारे पाठको और पाठिकाओं, अब मुनिया और […]

चिरयौवना साली-24

On 2010-02-16 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

लेखिका : कमला भट्टी कम्बल में घुसते ही जीजाजी ने बाहें फैलाकर मेरा स्वागत किया, मैं भी उनकी बाँहों में समां गई और उनके चौड़े चकले सीने में अपना मुँह छुपा लिया ! पर जल्दी ही उन्होंने मुझे ऊपर खींच कर मेरा चेहरा अपने चेहरे के बराबर कर लिया, मेरे गालों पर चुम्बन देने लगे […]

आंटी गुलबदन और सेक्स (प्रेम) के सात सबक-2

On 2010-02-16 Category: गुरु घण्टाल Tags:

प्रेम गुरु की कलम से 3. उरोजों को मसलना और चूसना शाम के कोई चार बजे होंगे। आज मैंने सफ़ेद पेंट और पूरी बाजू वाली टी-शर्ट पहनी थी। आंटी ने भी काली जीन पेंट और खुला टॉप पहना था। आज तीसरा सबक था। आज तो बस अमृत कलशों का मज़ा लूटना था। ओह… जैसे दो […]

चिरयौवना साली-23

On 2010-02-15 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

लेखिका : कमला भट्टी धीरे धीरे उन्होंने अपनी अंगुली का एक पोरवा मेरी गाण्ड में घुसा दिया था और चूत चाटते चाटते उसको धीरे धीरे अन्दर-बाहर कर रहे थे। हालाँकि उनकी अंगुली मेरी गाण्ड के छल्ले में नहीं घुसी थी पर वे उसको रवां करके घुसाने की तैयारी में ही थे। मेरी गाण्ड का छिद्र […]

आंटी गुलबदन और सेक्स (प्रेम) के सात सबक-1

On 2010-02-15 Category: गुरु घण्टाल Tags:

प्रेम गुरु की कलम से जब भी कामांगों और सेक्स (लंड, चूत और चुदाई) का नाम जबान पर आता है तो पता नहीं ये तथाकथित समाज और धर्म के ठेकेदार क्यों अपनी नाक भोंहें सिकोड़ने लगते हैं और व्यर्थ ही हंगामा मचाने लग जाते हैं। मैं एक बात पूछना चाहता हूँ कि क्या इन्होंने कभी […]

चिरयौवना साली-22

On 2010-02-14 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

लेखिका : कमला भट्टी मैं पहुँची तो वे सड़क पर लेफ्ट-राईट कर रहे थे। आखिर मैं सिटी बस से उतरी, वो मुझे होटल की ओर ले गये और कहा- मैं नाश्ता साथ ही लाया हूँ, हम कमरे में ही करेंगे, अभी सर्दी में वैसे भी लस्सी अच्छी नहीं लगेगी। मैंने कहा- चलो ठीक है। उस […]

चिरयौवना साली-21

On 2010-02-13 Category: जीजा साली की चुदाई Tags:

लेखिका : कमला भट्टी मेरे गाँव से थोड़ी दूर कोई 10-12 किलोमीटर पर देवी का मंदिर है और सबका वहाँ जाने का कार्यक्रम बन गया। हम सब वहाँ गए, देवी के दर्शन किये। वहाँ कुमकुम था, उससे जीजाजी सबके टीका लगा रहे थे और जब सब उस मंदिर से बाहर निकल रहे थे और मैं […]

Scroll To Top